Tuesday, November 12, 2019

राजकुमार और दैत्य चिंकारा।

राजकुमार और दैत्य चिंकारा 1 दिन शिकार करते हुए राजकुमार विक्रम रास्ता भूल गया। 

जंगली जानवरों से बचने के लिए वे एक गुफा में सो गया रात होने पर एक विशाल देती चिंकारा एक मासूम बच्चे को लेकर गुफा में पहुंचा।
बच्चे को बचाने के लिए राजकुमार ने देती से युद्ध किया परंतु द्वितीय ने उन्हें जादुई शक्ति समृद्ध बना दिया।
1 दिन मृत बने राजकुमार विक्रम लायंस मारते हुए एक उद्यान में पहुंच गया वहां राजकुमार सुनैना भ्रमण कर रही थी उसने मुझको अपनी गोद में उठा लिया और प्यार से उस पर हाथ फेरने लगी।

स्पर्श पाते ही मृत बने राजकुमार विक्रम फिर मनुष्य बन गए।

क्योंकि राजकुमार सुनैना की अंगूठी में लालमणि जड़ी थी। यह अंगूठी राजकुमार को इंद्रदेव से वरदान में मिली थी। राजकुमार विक्रम ने राजकुमारी को सारी बात समझाई लालमणि की रहस्य में सहायता से राजकुमार विक्रम ने दैत्य चिंकारा को मारकर मासूम बच्चे को देते कि गिरफ्तार से छुड़ा लिया।

राजकुमार विक्रम ने राजकुमारी सुनैना से विवाह कर लिया अब शेर राज महल में सुख से रहने लगे। 

पुलिस तेरे राजकुमार ने उस देश के चिंकारा को भी सबक सिखा दिया और वह बच्चे खुश होकर अपने घर चली गई।

No comments:

Post a Comment