Sunday, October 27, 2019

शिवांगी भैया यह पानी कहां से आ रहा है।

हम बातों ही बातों में गणेश धाम सिरोही पर कब पहुंच गए। 

सच पूछो तो इसके दो कारण थे एक तो रणथंबोर के प्रति हमारी उत्कृष्टा और दूसरी और बच्चों द्वारा पहुंचा जा रे नए नियम प्रशन।
वैसे तो रणथंबोर की हरीतिमा सवाई माधोपुर नगर से निकलते ही प्रारंभ हो जाती है लेकिन गणेश धाम किराई के पश्चात घने जंगल की शुरुआत होती है हमने सभी में एक गाइड भी लिया था जो हमने नई जानकारियां दे रहा था। यूं ही हमने हरियाली से आच्छादित क्षेत्र में प्रवेश किया उससे सुर में दृश्य को देखकर सभी रोमांचित हो गई है और सभी के चेहरे खिल उठे।
सर्वप्रथम हमने मिस रुद्रा दरवाजा देखा हुआ

कल कल करते बहते झरने हुए को मुख से गिरता पानी देखा बहुत ही मनोहारी दृश्य था। 

मेरी बेटी शिवांगी ने गाइड से बातों ही बातों में जानकारी ली।
शिवांगी भैया यह पानी कहां से आ रहा है। गई पहाड़ों के ऊपर छोर पर एक पानी बहकर जड़ने के रूप में यहां आ रहा है। शिवांगी भैया यह अभ्यारण क्षेत्र कितने वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला है गई पूर्व में रणथंबोर बाग क्षेत्र क्षेत्र का कुल क्षेत्रफल 13 से 34 पॉइंट 6 वर्ग किलोमीटर था।

शिवांगी बाघों की बढ़ती संख्या एवं भागों के परसूर घटकर से क्या तात्पर्य है। 

पूर्व में बाघों का शिकार हो जाने के कारण बाबू की संख्या घट गई थी केंद्र व राज्य सरकार तथा वन विभाग के प्रयासों से बाघों के शिकार पर रोक लगी और बाघों की संख्या तेजी से बढ़ने लगी बाघ अपनी एक निर्धारित क्षेत्र बनाते हैं जिसका क्षेत्र लगभग 2 वर्ग किलोमीटर होता है उसे तो दूसरे भाग के प्रवेश करने पर उनमें टकराव की स्थिति बन जाती है। इस तरह शिवांगी ने गाइड से सारी जानकारी ली।

No comments:

Post a Comment