Wednesday, 21 August 2019

शिव समग्र जीव जगत के लिए कल्याण तत्व है।

किरण तुमने भारतीय नारियों के बारे में सोच कर मुझे फेरे में डाल दिया है।

 इस समृति के चित्रपट के चित्रपट पर सैकड़ों हजारों मित्रों की भांति चमकते दमकते जीबीन एक के बाद एक ऐसे पढ़ते पढ़ते हैं। कि कल उसने पड़ गए हैं, किसका वर्णन हुआ और किसका नहीं उस अभी तो एक से एक बढ़कर है। कोई छोटा हो या बड़ा छोटे कहते अपराध की स्थिति है तो फिर जैसे-जैसे चित्र उभरता है उसका आंगन करता जाता है। सब तो एक जैसी गरीयसी मासी है और पत्र में बहुत अधिक लिखा भी भी तो नहीं जा सकता।
तुमने गोरी का नाम सुना है। वह पार्वती जिसने हिमाचल के घर जन्म लिया और पति रूप में शिव की प्राप्ति के लिए घोर तप किया था अब इस अभियान को समझने की कोशिश करो पार्वती नारी जाति का प्रतिनिधित्व करती है।

 शिव समग्र जीव जगत के लिए कल्याण तत्व है। 

जहां मानव दानव सुर असुर असुर दतिया सुर असुर दतिया गंधर्व सब एक समान आश्चर्य पाते हैं। वहां सांप बिच्छू बॉक्सिंग मूषक और मयूर सब एक साथ आनंद विचरण करते हैं शिव वह तत्व भी है। जो विषय वासना को पसंद करने की क्षमता रखता है। ऐसी कल्याणकारी शिव शक्ति को संसार के लिए सुलभ करने के नेतृत्व में सफल साधन की तुलना करने करने करने के बाद शिवजी संसार में खो गए थे  उनकी पूजा करती है,

सावित्री की कथा तो तुम्हें याद ही होगी। 

राज महल के लाड प्यार में पली उस सुकुमारी में ससुराल की मर्यादा की रक्षा के लिए किस प्रकार सहर्ष वन्यजीव अपना लिया था, उसने अनुसार ससुर की सेवा के साथ-साथ अनुपम पर्णपाती वर्तक आदर्श आदर्श संस्कार इस संसार के सम्मुख रखा इस त्याग तपस्या और निष्ठा से उसने ऐसी अलौकिक शक्ति का स्रोत पड़ा कि वे यमराज के फंदे से मृत्यु को भी जीवित लोटा जीवित लोटा भी जीवित लोटा जीवित लोटा लाने में समर्थ हुई।
एक थी माता अनुसूया ने श्री अत्रि की पत्नी उसके प्रतिवर्ती और राजनीति शक्ति के क्या कहने परीक्षा लेने आए त्रिदेव ब्रह्मा विष्णु और महेश और बन गईल समस्या सती की गोद में मचल तनिष्का सती सती का प्रताप भारतीय नारी की लोकोत्तर शक्ति अपने पुत्रों को शिक्षा देने वाली मौतों में 1 नाम होता है माता मदालसा का देवी बदल सब ब्रह्म ज्ञान की साकार ज्ञान की साकार ब्रह्म ज्ञान की साकार ज्ञान की साकार प्रतिभा थी ।

No comments:

Post a Comment