Thursday, 20 June 2019

अर्थव्यवस्था एक ऐसा ढांचा है।

प्रत्येक देश में व्यक्ति अपनी जीविकोपार्जन के लिए विभिन्न प्रकार के आर्थिक क्रियाकलापों में सम्मेलन है। 

 किसान हो या श्रमिकों की हो या दुकानदार अध्यापक हो या डॉक्टर सभी अपनी अपनी आजीविका कमाने हेतु कार्य कर रहा है। विभिन्न आर्थिक वर्गों को द्वारा विभिन्न प्रकार के आर्थिक कार्यों के संपादन हेतु। किसी सुव्यवस्थित व्यवस्था प्रणाली की व्यवस्था होती है। व्यवस्था को ही कहा जा सकता है। कि एक ऐसी प्रणाली अथवा व्यवस्था जिसके द्वारा और लोग अपना जीवन करते हैं। अर्थव्यवस्था  कहलाती है।

अर्थव्यवस्था एक ऐसा ढांचा है।

 जिसमें जिससे विभिन्न वस्तुओं के उत्पादकों के बीच परस्पर समन्वय व सहयोग का जन्म होता है। अर्थव्यवस्था एक ऐसी प्रणाली है। जिसमें उत्पादन उपभोग विनिमय प्रणाली आर्थिक न्याय निरंतर चलती रहती है। सामान्य यह कहा भी यह काफी जा सकता है। कि एक ऐसी व्यवस्था जिसके तहत किसी भी क्षेत्र में आर्थिक गतिविधियों होता है। अर्थव्यवस्था के लाती है उदाहरण के लिए चीनी का उत्पादन चीनी मिल द्वार किया जाता है। चीनी का उत्पादन के लिए उत्पादक गन्ना किसान से मशीन एवं उपकरणों तथा बिजली ऊर्जा संयंत्रों से प्राप्त करता है। उत्पादित चीनी को देश के विभिन्न भागों में एक स्थान से दूसरे स्थान तक लाने ले जाने के लिए परिवहन के साधन रेल ट्रक जहाज आदि की आवश्यकता पड़ती है चीनी उत्पादन हेतु।

 विभिन्न उत्पादकों के प्रयोग में तालमेल का ढांचा भी अर्थव्यवस्था कहलाता है।

संपूर्ण गांव अथवा कस्बे के निवासियों का आर्थिक क्रियाकलापों का जीवन गांव की अर्थव्यवस्था राजस्थान राज्य के निवासियों के आर्थिक क्रियाकलापों का अध्ययन राजस्थान की अर्थव्यवस्था देश के निवासियों के अर्धवार्षिक लीला क्रियाकलापों का जन्म भारत की अर्थव्यवस्था के अंतर्गत की आती है।
किसी भी देश में उत्पादन उपयोग विनिमय वितरण आदि।

 आर्थिक क्रियाकलापों का संचालन अर्थव्यवस्था के स्वरूप पर निर्भर करता है।

 देश में आर्थिक क्रियाओं के संचालन में राज्य का हिस्सा कितना होगा आदि आधारों पर विषय की विभिन्न अर्थव्यवस्थाओं को हम निबंध निबंध 3 वर्गों में विभाजित कर सकते हैं।
अर्थ पूंजीवादी अर्थव्यवस्था से अभिप्राय एक ऐसी आर्थिक प्रणाली है। जिसमें उत्पत्ति के सभी साधनों पर निजी व्यक्तियों का स्वामित्व व नियंत्रण होता है। तथा आर्थिक क्रियाओं का संचालन निजी एवं किसी भी प्रकार का हस्त पैसे नहीं करती है।

No comments:

Post a Comment